September 23, 2021

ALIG NEWS

For The People

अलीगढ़ महोत्सव 2021 में सर सैयद अवेयरनेस फोरम द्वारा सर सैयद सामाजिक कार्य एवं महामारी नामक विषय पर तेरहवाँ राष्ट्रीय सेमिनार का सफलतापूर्वक आयोजन किया गया

दिनांक 1 मार्च 2021 राजकीय औद्योगिक एवं कृषि प्रदर्शनी अलीगढ़ महोत्सव 2021 में सर सैयद अवेयरनेस फोरम द्वारा सर सैयद सामाजिक कार्य एवं महामारी नामक विषय पर तेरहवाँ राष्ट्रीय सेमिनार का सफलतापूर्वक आयोजन किया गया कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि श्री विवेक बंसल, पूर्व एमएलए एवं एमएलसी ने कहा कि सर सैयद अहमद खान जैसे लोग सदियों में आते हैं वह एक जीती जागती बहु-आयामी प्रतिभा थे।  उन्होंने अनेकता में एकता को बखूबी माना वह बहुत आगे की सोचते थे उन्होंने पश्चात्य वैज्ञानिक शिक्षा को प्रोत्साहन दिया।
कार्यक्रम में बीजक भाषण में प्रो० उरूज़ रब्बानी ने कहा कि सर सैय्यद ने देश और समाज की तरक्की के लिए अपना संपूर्ण जीवन समर्पित कर दिया ये सब को पता था कि सिर्फ शिक्षा ही सामाजिक स्तर को ऊपर उठा सकती है वह एक बहुमुखी प्रतिभा के धनी, लेखक, चिंतक, समाज सेवक व स्थापत्यकार थे।
फोरम के अध्यक्ष प्रोफेसर शकील समदानी,अधिष्ठाता विधि संकाय  अमुवि ने कहा कि देश में अलीगढ़ जैसा कोई शहर नहीं है क्योंकि यहां पर अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी है । सर सैयद न केवल एक इतिहासकार,लेखक व स्थापत्यकार भी थे बल्कि एक महान सामाजिक कार्यकर्ता भी थे उन्होंने मुश्किल समाज से बहुत से कृतियों को एवम रीत रिवाज़ को खत्म करने का प्रयास किया जिसमें वे काफी हद तक कामयाब रहे । हमारे देश को चेचक का टीका भी उन्हीं की वजह से प्राप्त हुआ था आज समय आ चुका है कि हम उन्हें प्रतीकात्मक रूप से याद करने के स्थान पर उनके विचारों को अपने जीवन मे अपनाएं ।
कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि खलील चौधरी, डायरेक्टर एम ए एस फाउंडेशन एवं पेरामेडिकल इंस्टिट्यूट में कहा कि सबसे याद नहीं उस वक्त में आधुनिक शिक्षा पर जोर दिया और एम ए ओ कॉलेज स्थापित किया जब लोग आधुनिक शिक्षा को स्वीकार नहीं करते थे उन्होंने चंदा भी मांगा पर इसलिए कि आने वाले दौर में कॉम इल्म की रोशनी से जगमगाए यहां से हम सभी को सर सैय्यद की सीख को साथ लेकर जाना चाहिए और अपने जीवन में अपनाना चाहिए।  
कार्यक्रम के मुख्य वक्ता डॉ शरिक अकील, सीएमओ यूनिवर्सिटी हेल्थ सर्विस ने कहा कि सर सैयद एक बढ़कर कोई भी राजनीतिक चिंतक नहीं हो सकता आज सर सैयद की सोच को आगे बढ़ाने की जरूरत है एएमयू के मेडिकल कॉलेज में हमारी के समय में अहम भूमिका निभाई है यहां तक कि राष्ट्रपति ने भी इस योगदान का सराह है।
कार्यक्रम की अध्यक्षीय टिप्पणी करते हुए मेयर अलीगढ़ मोहम्मद फुरकान ने कहा कि सर सैयद के लिए पूरा हिंदुस्तान एक था उन्होंने कभी जाति अथवा धर्म के आधार पर कोई भेदभाव नहीं किया अगर हम सर सैयद के विचारों को अपनी जिंदगी में अपनाएंगे तो अवश्य ही कामयाब होंगे। उन्होंने कार्यक्रम के संयोजक प्रो० शकील समदानी को तेहरवाँ सेमिनार करने की हार्दिक बधाई देते हुए कहा कि उन्होंने सर सैयद के विचारों को आगे बढ़ाने का कार्य किया है वो सराहनीय है
इस अवसर पर अपने अपने क्षेत्रों में उत्कृष्ट सेवा के लिए प्रो० मो० शमीम,डॉ नज़्मुद्दीन अंसारी,श्री तारिक़ हुसैन, श्री पवन वार्ष्णेय आदि को एक्सीलेंस अवार्ड से प्रो० उरूज रब्बानी, प्रो० शकील समदानी,विवेक बंसल एवं महापौर मो० फुरकान,अंजुम तसनीम द्वारा किया गया । डॉ नजमुद्दीन अंसारी द्वारा आएशा समदानी एवम सारा समदानी को एक-एक हज़ार रुपये का नक़द इनाम दिया

कार्यक्रम का सफल संचालन आयशा समदानी एमबीबीएस की छात्रा ने किया।इस अवसर पर सारा समदानी ने भी एक भाषण प्रस्तुत किया । हिबा जहीर ने स्वागत भाषण दिया तथा अब्दुल्ला समदानी ने फोरम के उद्योष्यो पर प्रकाश डाला। सेमिनार में रिपोर्टर की भूमिका शेल्जा सिंह व फौजिया ने निभाई । रज़िया चौहान ने सर्टिफिकेट इंचार्ज की भूमिका निभाई । इस सेमिनार को सफल बनाने में डॉ हैदर अली,शौएब अली,महासचिव एस० ए० एफ०,स्वेता,अनुष्का,इशु शर्मा,विकल्प शर्मा, तथा श्वेतांग की महत्वपूर्ण भूमिका रही। उसमे कुलसुम,मुर्शिदाबाद, शगुफ़्ता यासमीन मुर्शिदाबाद,रस्म मसूद,अनस,शुभम कुमार,सलमान,दानिश अकबाल,सरीम अली,मंतव्य चौहान,अंजुम तसनीम आदि का महत्वपूर्ण योगदान रहा । इस अवसर पर सभी प्रतिभागियों को सर्टिफिकेट प्रदान किया गया और बहुत से लोगो को स्मृति चिन्ह दिया गया

Instagram202
YouTube20
Facebook472
Twitter674
LinkedIn820
Share